कही गौशाला की आड़ में अपना जेब तो नही भर रहे सदस्य? अव्यवस्था देख बिफरे छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष….

तीन बोर लेकिन पानी एक बूंद भी नही क्यों?

इतने बड़े गौशाला में कोटना तो है लेकिन चारा नहीं क्यों?

बिना इलाज के तड़पता रहा गौवंशी,

जब पहले से ज्ञात था की छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज का आगमन रायगढ़ हो रहा है तो ऐसी स्थिति में भी गौशाला की दुर्दशा को ठीक नही किया जाना इस ओर इशारा कर रहा है की गौशाला तो महज दिखावा है इसकी आड़ में कुछ लोग अपनी स्वार्थ सिद्धि करने में लगे रहते है।


छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज का आगमन एक दिवसीय प्रवास पर रायगढ़ हुआ। उन्होंने श्री चक्रधर ट्रस्ट द्वारा संचालित गौशाला का निरीक्षण किया। यहां व्याप्त अव्यवस्था को देखकर वे काफी दुखी हुए। उन्होंने गौशाला संचालक मंडल के सदस्य विजय अग्रवाल से पूछा कि गौशाला का देखरेख किसके द्वारा किया जाता है? उन्होंने जवाब दिया कि मैं ही इनकी देखरेख का कार्य करता हूं! राजेश्री महन्त जी ने उनसे कहा कि आपने मुझे पूरा गौशाला दिखाया। जहां -जहां पर भ्रमण कराया उन सभी स्थानों को मैंने देखा! किसी भी कोटना में दाना या चारा देखने को नहीं मिला! पानी की टंकी बनी हुई हैं किंतु किसी भी टंकी में पानी नहीं है! श्री अग्रवाल ने उत्तर देते हुए कहा कि यहां तीन बोर हैं। राजेश्री महन्त जी ने कहा तीन बोर का क्या मतलब? पानी तो एक बूंद नहीं है!

उन्होंने पुनः पूछा कि यहां पर चार नंदी है इनको आपने स्नान कब कराया है? अग्रवाल ने कहा इन्हें हम रोज नहलाते हैं। राजेश्री महन्त जी ने कहा कि उनके पूरे शरीर पर गोबर के लेप लगे हुए हैं जो सुख चुके हैं, जब निरीक्षण पर निकलता हूं तो हर चीज पर मेरी नजर रहती है। यदि आप गौ माता को माता मानते हैं तो उनकी सेवा माता की तरह ही होनी चाहिए। इतनी अव्यवस्था उचित नहीं है! गर्मी के दिनों में चारों तरफ गोबर का कीचड़ फैला हुआ है बरसात में ये कैसे गुजारा करते होंगे? उन्होंने साफ- सफाई को दुरुस्त करने के निर्देश दिए और कहा कि बरसात के दिनों में इस तरह की गंदगी से विभिन्न तरह की बीमारियां उत्पन्न होगी! उल्लेखनीय है कि निरीक्षण के समय एक गौवंशी दुर्घटनाग्रस्त था जो बिना उपचार के जमीन पर पड़ा हुआ दिखाई दिया। पूछने पर पता चला कि दो दिन पहले उन्हें गौशाला में लाया गया है। महन्त जी ने डॉक्टर बुलाकर उनके उपचार करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के सदस्य पुरुषोत्तम साहू, प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के उपाध्यक्ष शेख ताजिम, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष दीपक आचार्य, उपाध्यक्ष विजय शर्मा, विजय त्रिवेदी, डॉक्टर सिह, डॉक्टर दीनानाथ चौधरी, जयप्रकाश अग्रवाल, बृज मोहन सावड़िया, अमरनाथ गुप्ता, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव, हर्ष दुबे सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे। गौशाला निरीक्षण के पूर्व राजेश्री महन्त जी महाराज श्री नील माधव मंदिर बेलादुला, रायगढ़ में आयोजित अध्यात्मिक कार्यक्रम में भी शामिल हुए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सुर्खियां
capitalchhattisgarh.com